WealthDesk

प्रत्यक्ष और पोर्टफोलियो निवेश में क्या अंतर है?

Read this article in English
  1.  भारतीय शेयर बाजार में वित्तीय वर्ष 2021 के दौरान निवेशकों की रिटेल भागीदारी बढ़ने से नए व्यक्तिगत निवेशक अकाउंट्स की संख्या में 1.42 करोड़ का भारी उछाल देखने को मिला।
  2. नवंबर 2021 में इक्विटी म्यूचुअल फंड निवेश में भी 122% (अक्टूबर 2021 में ₹5,214 करोड़ से ₹11,614 करोड़) की बढ़ोतरी हुई, जिससे 30 नवंबर 2021 तक कुल इंडस्ट्री एसेट ₹37.34 ट्रिलियन हो गई।

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव कितना ही क्यों न हो, निवेशक प्रत्यक्ष इक्विटी निवेश (direct equity investment) और अनुकूलित पोर्टफोलियो निवेश रिटर्न (optimized portfolio investment returns) के लंबी अवधि के फायदों को समझते हैं। हालांकि, यह सवाल बहस का विषय बना हुआ है कि क्या सीधे इक्विटी शेयरों में निवेश किया जाए या फिर किसी विशेषज्ञ पेशेवर के जरिए पोर्टफोलियो निवेश पर विचार किया जाए।

यहां आप जान सकते हैं कि प्रत्यक्ष निवेश क्या है, इसके फायदे और नुकसान क्या हैं, पोर्टफोलियो निवेश क्या है, उसके फायदे और नुकसान क्या हैं और प्रत्यक्ष एवं पोर्टफोलियो निवेश के बीच का अंतर आपको अपने इक्विटी निवेश पर बेहतर निर्णय लेने में कैसे मदद करता है।

प्रत्यक्ष निवेश क्या है?

जब कोई निवेशक किसी कंपनी के शेयरों में सीधे निवेश करता है तो उसे प्रत्यक्ष (Direct) इक्विटी निवेश कहते हैं। प्रत्यक्ष निवेश में, आप तय करते हैं कि किस कंपनी के शेयर खरीदना चाहते हैं और शेयर भी आपको खुद ही खरीदने पड़ते हैं। इसलिए, आप बाजार के रुझानों और अपने विश्लेषण पर विचार करने के बाद प्रत्यक्ष निवेश में जो खरीदते और बेचते हैं उसे कंट्रोल भी आप ही करते हैं।

प्रत्यक्ष निवेश में निवेशक जब चाहें सिक्योरिटी खरीद या बेच सकते हैं। हालांकि उन बाजारों और कंपनियों के प्रदर्शन का अध्ययन और विश्लेषण करना आपके लिए चुनौतीपूर्ण होता है।

प्रत्यक्ष निवेश के फायदे और नुकसान

आपको कंपनियों के इक्विटी शेयरों में सीधे निवेश करना चाहिए अगर-

•   आपकी शेयर बाजार में रुचि है और आपको पहले से ही बाजार का पूरा ज्ञान है।

•   आपको पता है कि लंबे समय की ग्रोथ के लिए अपना पैसा कहां निवेश करना है।

•   आप अपने निवेश को कंट्रोल करना चाहते हैं और अपने निर्णय खुद लेना चाहते हैं।

•   आप बाजार के विशेषज्ञों द्वारा किए जा रहे कामों के बजाय अपने दम पर ही पूरे बाजार का विश्लेषण करना पसंद करते हैं।

आपको कंपनियों के इक्विटी शेयरों में सीधे निवेश नहीं करना चाहिए अगर-

•   आपको शेयर बाजार के बारे में न तो कुछ पता है और न ही खुद में अध्ययन करने का धैर्य है।

•   आपको पता नहीं हैं कि किन कंपनियों के शेयरों में निवेश करना चाहिए और वे कैसा प्रदर्शन करेंगे।

•   आप जोखिम से बचने वाले निवेशक हैं और प्रत्यक्ष इक्विटी निवेश के बजाय सुरक्षित तरीके से खेलना चाहते हैं।

•   आप कई रिसर्च पर अपना वक्त बिताना चाहते हैं और विशेषज्ञों को विश्लेषण के लिए भुगतान करना पसंद करते हैं।

तो, अगर आप प्रत्यक्ष निवेश का चयन नहीं करना चाहते हैं तो आपको क्या करना चाहिए?

यहां पोर्टफोलियो निवेश एक अच्छा विकल्प है। जहां आप रोजाना बाजार का विश्लेषण करने वाले विशेषज्ञों द्वारा खास तौर पर डिजाइन किए गए पोर्टफोलियो में निवेश कर कर सकते हैं।

आइए समझते हैं कि पोर्टफोलियो निवेश क्या है और आपको इसमें निवेश क्यों करना चाहिए?

पोर्टफोलियो निवेश क्या है?

पोर्टफोलियो निवेश से मतलब ये है कि अलग-अलग सिक्योरिटी पर विचार-विमर्श के बाद इंडस्ट्री के पेशेवरों द्वारा सावधानीपूर्वक बनाए गए एक या एक से ज्यादा पोर्टफोलियो में अपने पैसे का निवेश करना। बाजार के शोधकर्ता आपके लिए एक पोर्टफोलियो तैयार करने के लिए कुछ शुल्क लेते हैं और बाकी काम वे करते हैं। जैसे- एक पोर्टफोलियो बनाने से लेकर टाइम रीबैलेंसिंग (मौजूदा स्थिति से बाहर निकलने और नई पोजिशन में प्रवेश करने) तक।

अपने निवेश पोर्टफोलियो को मैनेज करना कभी-कभी मुश्किल हो सकता है क्योंकि आप तुरंत उसका प्रदर्शन नहीं देख सकते हैं। इसके उलट, पेशेवर नियमित रूप से बाजार के बारे में अपने व्यापक ज्ञान का इस्तेमाल करते हैं। कुछ बेहतरीन निवेश पोर्टफोलियो में सभी सेक्टरों की कंपनियों के शेयर शामिल होते हैं, ताकि पोर्टफोलियो में विविधता लाई जा सके और जोखिम कम हो सके।

पोर्टफोलियो निवेश के फायदे और नुकसान

आपको इंडस्ट्री के विशेषज्ञों द्वारा बनाए गए पोर्टफोलियो में निवेश करना चाहिए अगर-

•   आप अपने दम पर शेयर बाजार का विश्लेषण करने का समय नहीं है और बाजार के विशेषज्ञों के नजरिए पर भरोसा करते हैं।

•   आप अपने निवेश में विविधता लाने के लिए सिक्योरिटी पोर्टफोलियो में निवेश करने के लिए थोड़ा शुल्क देने के लिए तैयार हैं।

•   आप अपना रिटर्न बढ़ाना चाहते हैं, लेकिन कैसे बढ़ाएं ये पता नहीं है।

•   आप बाजार की अस्थिरता से डरते हैं फिर भी इक्विटी निवेश के माध्यम से अपना पैसा बढ़ाना चाहते हैं।

आपको इंडस्ट्री के विशेषज्ञों द्वारा बनाए गए पोर्टफोलियो में निवेश नहीं करना चाहिए अगर-

•   आप पेशेवरों को बाजार के विश्लेषण के लिए शुल्क का भुगतान करने के लिए तैयार नहीं हैं।

•   आप खुद कंट्रोल करना चाहते हैं कि आपको कहां निवेश करना है, कब निवेश करना है और कब उसे वापस निकालना है।

•   आप जोखिम लेने के लिए तैयार हैं और अपने तरीके से निवेश करना चाहते हैं।

प्रत्यक्ष और पोर्टफोलियो निवेश के बीच अंतर

जोखिम

प्रत्यक्ष इक्विटी निवेश में पोर्टफोलियो निवेश से ज्यादा जोखिम होता है। व्यापक रिसर्च के आधार पर, पोर्टफोलियो निवेश अलग-अलग क्षेत्रों में निवेश करके जोखिम में विविधता लाता है।

रिटर्न

प्रत्यक्ष निवेश से मिलने वाला रिटर्न कभी-कभी बहुत कम या बहुत ज्यादा हो सकता है। मगर पोर्टफोलियो निवेश में संतुलित रिटर्न मिलता रहता है, क्योंकि इसमें अलग-अलग सेक्टरों में निवेश किया जाता है।

निवेश की लागत

प्रत्यक्ष इक्विटी निवेश में निवेश की लागत कम होती है क्योंकि आप खुद निवेश करते हैं। हालांकि, पोर्टफोलियो निवेश में आपका खर्च ज्यादा हो सकता है क्योंकि आप पोर्टफोलियो बनाने और इसे रीबैलेंस करने के लिए बाजार के पेशेवरों को शुल्क का भुगतान करते हैं।

निवेश पर नियंत्रण

प्रत्यक्ष निवेश में आप खुद ही अपने निवेश को नियंत्रित करते हैं और अपने निवेश के फैसले खुद लेते हैं। इसके विपरीत, पोर्टफोलियो निवेश में सभी फैसले इंडस्ट्री के विशेषज्ञ लेते हैं।

आखिर में

अगर आपके पास शेयर बाजार का ज्ञान है, तो अपने पैसे को सीधे इक्विटी में निवेश करना आपके लिए अच्छा रहेगा। हालांकि, जब आप अपने रिटर्न को बढ़ाना चाहते हैं और पूरी तरह से शोध किए गए शेयरों में निवेश करना चाहते हैं तो आप पोर्टफोलियो निवेश कर सकते हैं।WealthDesk में, हम आपके पैसे को SEBI से मान्यता प्राप्त विशेषज्ञों द्वारा डिज़ाइन किए गए स्टॉक और ETF के कॉम्बिनेशन में निवेश करने में आपकी मदद कर सकते हैं। ये विशेषज्ञ हर स्टॉक और ETF के बारे में व्यापक रिसर्च करके WealthBaskets बनाते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

क्या इक्विटी एक अच्छा निवेश है?

अस्थिर बाजारों और कीमतों में उतार-चढ़ाव के कारण कंपनियों के शेयरों में निवेश करना काफी जोखिम भरा होता है। हालांकि, आप अन्य विकल्पों के मुकाबले इक्विटी निवेश में  सही रणनीति के साथ बेहतर मुनाफा कमा सकते हैं।

निवेश में पोर्टफोलियो क्या है?

एक पोर्टफोलियो में विभिन्न सिक्योरिटीज होती हैं जैसे स्टॉक, बॉन्ड, एफडी, ईटीएफ, म्यूचुअल फंड आदि।

एक अच्छा पोर्टफोलियो निवेश कैसे बनता है?

अच्छी तरह से डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो को एक अच्छा निवेश माना जाता है, जिसमें ब्लू-चिप कंपनियां, अच्छी ग्रोथ वाले स्टॉक और अन्य सिक्योरिटीज मौजूद हों।

प्रत्यक्ष और पोर्टफोलियो निवेश में क्या अंतर है?

WealthDesk
प्रत्यक्ष और पोर्टफोलियो निवेश में क्या अंतर है?

Reach out to the author

avtar
WealthDesk

Hot topics